पिंडली यानी टांग के निचले हिस्‍से में पीछे की ओर दर्द होना। मांसपेशियों में खिंचाव या ऐठन की वजह से पिंडली में दर्द हो सकता है। इसके अलावा गिरने, खेल-कूद के दौरान पिंडली में चोट लगने की वजह से भी ऐसा हो सकता है। कभी-कभी किसी गंभीर समस्‍या के कारण भी पिंडली में दर्द होता है। हर इंसान को पिंडली का दर्द अलग-अलग तरह से महसूस हो सकता है। सामान्‍य तौर पर इसमें हल्‍का दर्द, पीड़ा होना या तेज दर्द उठता है।, पिंडली में दर्द मांसपेशियों में खिंचाव के कारण उठता है। यह खिंचाव आमतौर पर चोट लगने के कारण होता है। अगर इस दर्द को जल्द ही ठीक ना किया जाए तो यह किसी गंभीर समस्या का रूप भी ले सकता है। कुछ घरेलू उपाय हैं, जिनकी मदद से पिंडली के दर्द को ठीक किया जा सकता है।, टांगों के निचले हिस्से में दर्द उठने पर हल्दी एक कारगर नुस्खा साबित हो सकती है। हल्दी के अंदर एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी (सूजनरोधी) गुण पाए जाते हैं, जो दर्द को कम करने में मदद करते हैं। हल्दी में करक्यूमिन नामक यौगिक मौजूद होता है जो सूजन व दर्द को खत्म करता है और मांसपेशियों को आराम पहुंचाता है।, इस मिश्रण को दिन में दो बार इस्तेमाल किया जा सकता है।. Log in. ... Joron Ke Dard Ka Ilaj urdu - Hindi - Lehsan se joro Ke Dard Ka Kamal Our Khatma. Sign up. Ghiza main charbi ka ziyadah miqdar bhe high cholesterol hony ki aik wajah hai. www.exotik-shopping.de.ki. Watch fullscreen. » vor 4 Jahren foto e fornelli. Gardan Mein Dard Kiyun Hota Hai | Gardan Mein Dard Ki 5 Wajohat | Gardan Ke Dard Ka Ilaj Haschema: Mein Badetag als Fundi-Frau 16.06.2007 - 10:00 Uhr. Lekin phir bhi aaram nahi aata au har waqt bey aarami rahti hai. M ein Mann ist der wahrscheinlich größte Fan von Laugengebäck überhaupt. Matwazan ghiza khain or apny khany main charbi or ghee ki miqdar ko kam karain is sy aapka barha hua cholesterol normal kiya ja sakta hai. बीसीसीआई ने बताया, उमेश ने अपना चौथा ओवर फेंकने के दौरान पिंडली में दर्द की शिकायतत की। बीसीसीआई की मेडिकल टीम ने उनकी जांच की। उनका अब स्कैन होगा। Sugar ki alamat Common treatment for diabetes Sugar ki alamat, skin beauty cream, complete cure for diabetes in ayurveda, ayurvedic cure for diabetes, Itrifal ustukhuddus. 28) kaheli aur dehla ho jana yani nikama ho jana aur khoob sona dair dair tak . Tipps findest du im Internet. Banana mein iron hota hai isky khanay sey red blood cells mein izafa hota hai aur 1 mah tak ye totka istemal karen iski sab sey bari bat ye hai kay aap ki pindlion mein majood dard ahista ahista khatam ho jaye ga aur apki sehat mein bhi behtri ayegi. paules ki(t)chen • « Es gibt Momente im Leben, die auch in der Wiederholung nichts von ihrem Zauber verlieren. Zwei Crucial M4 in der Erstkonfig (mein erster Ansatz war wie Deiner), ein halbes Jahr später zwei Samsung zusätzlich. Schoko-Kuchen-Nachmittage vor 4 Jahren IRRE KOCHEN. September 12, 2019 कई बार आवाज़ आने में कुछ क्षण का विलम्ब हो सकता है! gardan ke dard ka gharelu ilaj; hepatitis b ka ilaj; hepatitis ka ilaj; kala yarkan ka behtreen ilaj; kala yarkan ka ilaj; kandhe ke dard; kandhe ke dard ka ilaj; Latest Ubqari; lower cholesterol quickly; Monthly Ubqari; pato ka dard; Peela Yarkan; pindli mein dard; remedies for cholesterol; shoulder pain ka … Library. Zuallererst ... Hol Farbe und pinsle an, wenn du Freundinnen hast, die dir helfen wollen, nutze das aus und streich gleich dein Zimmer neu. Lekin laung mein dard kam hone ki parkirya thodi dhimi hoti hai isliye iske asar karne ke liye aapko thoda dhairy rakhna padega. अब ठंडा होने जानें टांगों में दर्द के लक्षण, कारण, उपचार, इलाज, परीक्षण और परहेज के तरीकों के बारे में | Jane Tango me dard (Leg Pain) Ke Karan, Lakshan, ilaj, Dawa Aur Upchar Hindi Me In meinen Projekten ist diese Größe derzeit ausreichend. vier. The independent online video platform. Dauert die Arbeitsunfähigkeit länger als 3 Kalendertage, ist der Arbeitnehmer verpflichtet, dem Arbeitgeber spätestens am darauffolgenden Arbeitstag eine ärztliche Bescheinigung über das Bestehen der Arbeitsunfähigkeit und deren voraussichtliche Dauer vorzulegen. Tangon mein dard ke 7 fori gharelu ilaj in Urdu. Meda ke amraa jin mein seene ki jalan, mede ka dard, badhazmi, tezabiat,gas aur bhook na lagna ki kya wajohat ho sakti hain aur in se bachne ke liye ka karna chahiye... Search. अपनी भाषा में हेल्थ टिप्स, स्वस्थ रहने के उपाय की जानकरी प्राप्त करें - Find health information, health tips in hindi 4. Wenn du neu streichst, kannst du eine Kante an die Wände machen. Tulsi ke patte roz subah khaali pet khane se gas nai banti hai aur gale ki jalan mein araam milta hain. Transitions In UX Design vor 7 Jahren Alle anzeigen Laugenbagels Donnerstag, 10. 27 meda main dard rehna aur matli ki shekayat rehan . सेब का सिरका भी पिंडली में दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। सेब के सिरके के एल्केलाइन प्रभाव होते हैं जो खून में यूरिक एसिड के क्रिस्टल्स को घोलने में मदद करता है और जोड़ों व संयोजी ऊत्तकों (कनेक्टिव टिश्यूज) में बनने वाले विषाक्त पदार्थों को भी हटाता है। इसमें कैल्शियम, पोटेशियम और अन्य मिनरल्स भी पाए जाते हैं जो सूजन और दर्द में आराम पहुंचाने में काफी मददगार होते हैं। यह गठिया और गाउट के दर्द में भी फायदेमंद होता है। इसे इस्तेमाल करना बेहद आसान है: इस प्रक्रिया को रोजाना दो बार करें जब तक दर्द से आराम ना मिल जाए।, सेब के सिरके की ही तरह सेंधा नमक के पानी का स्नान भी पिंडली के दर्द में आराम दिलाता है। सेंधा नमक में मैग्नीशियम मौजूद होता है जो कि एक महत्वपूर्ण इलेक्ट्रोलाइट है। यह शरीर में नसों द्वारा भेजे जा रहे दर्द के संकेतों को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। सेंधा नमक मांसपेशियों में आराम पहुंचाता है, जिससे दर्द व सूजन दोनों कम होने में मदद मिलती है।, इस प्रक्रिया को दिन में एक बार से ज्यादा और हफ्ते में दो या तीन बार से ज्यादा ना करें।, अदरक में दर्द निवारक गुण होते हैं जो जलन, सूजन और मोच जैसी परेशानियों से आराम दिलाने में मदद करते हैं। साथ ही यह रक्त प्रवाह को भी बेहतर करती हैं जिससे मांसपेशियों को दर्द से राहत मिलती है।. ठंडी सिकाई दर्द को सुन्न और जलन को कम करने का काम करती है, इसके साथ ही गर्म सिकाई सख्त जोड़ों को मुलायम बनाती है और मांसपेशियों को आराम पहुंचाती है। दर्द से जल्दी आराम पाने के लिए इन उपायों को किया जा सकता है, जिनकी विधि कुछ इस प्रकार है: इस प्रक्रिया को दिन में 2 बार दोहराने की सलाह दी जाती है।, नींबू में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो दर्द से राहत पहुंचाते हैं। साथ ही नींबू आपके शरीर में एसिड और एल्केलाइन की मात्रा को नियंत्रित रखता है जिससे जलन और सूजन कम होने लगती है। नींबू हम सभी के किचन में आसानी से मिल जाता है और इसे इस्तेमाल करने का तरीका भी बेहद आसान है।, इन दोनों ही तरीकों का इस्तेमाल तब तक करें जब तक दर्द पूरी तरह से खत्म ना हो जाए।, इन सभी उपायों के साथ आपके शरीर में पर्याप्त पानी होना भी जरूरी है। पानी से भी पिंडली में होने वाले दर्द को कम किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि पानी की कमी के कारण आपकी मांसपेशियों में दर्द होने लगता है। रोजाना 3 से 4 लीटर पानी पिएं, इससे पिंडली में दर्द कम होने में काफी मदद मिलेगी और अन्य मांसपेशियों में मोच, सूजन व दर्द आदि होने का खतरा भी कम होगा।, पिंडली में दर्द से छुटकारा पाने के लिए पिंडली की तेल से मालिश करें। मालिश करने से मांसपेशियों में रक्त प्रवाह  बढ़ जाता है और मांसपेशियों को गर्माहट मिलती है। तेल मांसपेशियों को दर्द से राहत दिलाता है, कई प्रकार के तेल जैसे चीड़, लैवेंडर, अदरक और पुदीने के तेल से मालिश करने से मांसपेशियों का दर्द कम होता है और सूजन भी ठीक हो जाती है।, मांसपेशियों में खिंचाव आने की वजह से पिंडलियों में दर्द हो सकता है। अगर आपकी पत्नी को मांसपेंशियों में खिंचाव की वजह से ये प्रॉब्लम हुई है तो उनके लिए सबसे असरदार तरीका है 'स्ट्रेचिंग'। अपनी पत्नी को पैरों को स्ट्रेच करने वाली एक्सरसाइज करने के लिए कहें।, जी हां, घरेलू नुस्खों में लाल मिर्च से पिंडली में दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है। लाल मिर्च में कैप्सैसिन होता है जो जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द में आराम पहुंचाता है। आप इसका पेस्ट बनाकर पिंडली पर लगा सकते हैं। इसके लिए आप आधी चम्मच लाल मिर्च और इसमें थोड़ा जैतून या नारियल का तेल (गुनगुना) मिला कर इसका पेस्ट तैयार कर लें और फिर प्रभावित हिस्से पर लगाएं। दो मिनट के बाद इसे धो लें।, इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए सबसे सरल तरीका है कि आप ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। यदि आप नियमित रूप से पर्याप्त मात्रा में पानी पीते हैं तो आपको न केवल पिंडली के दर्द बल्कि कई अन्य समस्याओं से भी छुटकारा मिल सकता है। दरअसल हमारे शरीर में नमी को बरकरार रखने के लिए पानी बेहद आवश्यक है, जाहिर है नमी की कमी से मांसपेशियों में जकड़न, दर्द इत्यादि समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। इस वजह से आपको वर्कआउट करने के दौरान भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन अगर आप नियमित रूप से पानी पीते हैं तो यह इससे शरीर में मौजूद कई प्रकार के अनावश्यक और विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और हमें कई प्रकार की समस्याओं से बचाव एवं छुटकारा मिलता है।, अस्वीकरण: इस साइट पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए।.